Machli Palan Loan Yojana Se Fish Farming Kaise Kare

मछली पालन एक ऐसा व्‍यवसाय है, जो कश्‍मीर से लेकर कन्‍याकुमारी तक किया जाता है। इस व्‍यापार को करने के लिये भारत के हर राज्‍य में Machli Palan Loan Yojana चलाई जा रही है।

Machli Palan Loan Yojana Se Fish Farming Kaise Kare
मछली पालन कैसे करें

Machli Palan के लिये केंद्र सरकार भी मछुआरों को वित्‍तीय सहायता उपलब्‍ध कराती है। इस वित्‍तीय सहायता का एक मात्र उद्देश्य देश में नीली क्रांति को बढ़ावा देना है।

मछली एक ऐसा मांसाहारी खाद्ध पदार्थ है, जिसमें विटामिट और खनिज लवण प्रचुर मात्रा में पाये जाते हैं और इसे भारत के हर राज्‍य के लोग खाना पसंद करते हैं।

मछली को बहुत ही पौष्टिक भोजन माना जाता है। इसलिये मछली के मांस की मांग बहुत अधिक होती है। ऐसे में Machli Palan एक लाभकारी व्‍यवसाय है।

भारत में Machli Palan परंपरागत रूप से समाज के मछुआ समुदाय के लोग करते हैं। लेकिन मछलियों की बाजार में दिन पर दिन बढ़ती डिमांड से यह बहुत ही लाभकारी व्‍यवसाय साबित हो रहा है।

यही वजह है कि भारत के हर राज्‍य में पढ़े लिखे बेरोजगार Machli Palan के क्षेत्र में अपना कदम रख रहे हैं और वैज्ञानिक ढंग से Fish Farming करके खूब मुनाफा भी कमा रहे हैं।

मछली पालन को कोई भी पढ़ा लिखा बेरोजगार व्‍यक्ति Machli Palan Loan Yojana के माध्‍यम से शुरू कर सकता है। इस काम के लिये आपको प्रत्‍येक राष्‍ट्रीकृत बैंक से Loan मिल सकता है और जिस राज्‍य में आप Machli Palan कर रहे हैं, वहां आपको Sarkari Anudan भी मिल सकता है।

Machli Palan Loan Yojana Me Sarkari Anudan Kaise Milta Hea

Machli Palan Loan Yojana के तहत जब हम Machli Palan यानि Fish Farming Business शुरू करने पर विचार करते हैं, तो सबसे पहले हमारे पास एक तालाब का होना बहुत जरूरी होता है।

तालाब 2 प्रकार के हो सकते हैं। ग्रामीण स्‍तर पर पंचायत के अधीन आने वाले तालाबों का पटटा आपको 5 से 10 वर्ष की लीज़ पर मिल सकता है। इस प्रकार के तालाब को हासिल करने के लिये Machli Palan के इच्‍छुक व्‍यक्ति को नियमानुसार एक प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है।

दूसरे तालाब निजी होते हैं, जो अपनी निजी भूमि पर बनाये जाते हैं। इस प्रकार के तालाब के निर्मांण के लिये बैंकों की Machli Palan Loan Yojana के तहत ऋण लेना होगा।

यदि तालाब को पटटे पर लेना है तो आपके पास निम्‍नलिखित दस्‍तावेज होना बहुत जरूरी हैं।

  • तालाब की नकल, जमाबंदी व हक सिजरा
  • शपथ पत्र
  • (फार्म 4) पटटा धनराशि की रसीद
  • इकरार नामे की कॉपी जो मछली पालक व ग्राम पंचायत के बीच हुआ हो
  • नकल प्रस्‍ताव की कॉपी जो ग्राम पंचायत तालाब को पटटे पर देने से संबंधित हो
  • प्रशिक्षण प्रमाण पत्र की छाया प्रति

Talab Sudhar Ke Liye Sarkari Anudan

तालाब चाहे निजी हो या फिर पंचायत का Sarkari Sahayta सभी पर मिलती है। यदि आपके पास तालाब है, तो उसके सुधार के लिये सरकार की ओर से आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है।

Sarkari Sahayta तालाब की इन लेट को ठीक कराने, तालाब की गहराई को समुचित रूप से बढ़ाने, बांध के निर्मांण तथा आउटलेट दुरूस्‍त कराने के लिये दी जाती है।

राज्‍य सरकारों की ओर से Machli Palan Loan Yojana के तहत प्रति हेक्‍टेयर 60,000 रूपये का लोन बैंकों से दिलाने में आपकी सहायता करती है। लोन की इस राशि का 20 प्रतिशत अनुदान के रूप में मिलता है।

Machli Beej (Fish Seed) Ke Liye Sarkari Sahayta

सरकार की ओर से मछली बीज (Fish Seed) व मछलियों के भोजन के लिये भी Loan उपलब्‍ध कराया जाता है। इस बैंक लोन की राशि प्रति हेक्‍टेयर 30,000 रूपये होती है। इस लोन पर भी 20 प्रतिशत सरकारी अनुदान दिया जाता है।

Machli Palan Loan Yojana Se Niji Talab Kaise Banaye

यदि आप अपनी निजी भूमि पर Machli Palan करना चाहते हैं, तो आपको स्‍वयं ही तालाब का निर्मांण कराना होगा। इस‍के लिये भी बैंक लोन उपलब्‍ध है।

निजी भूमि पर तालाब के निर्मांण के लिये प्रति हेक्‍टेयर की दर से 2 लाख रूपये का ऋण उपलब्‍ध कराया जाता है। जिस पर 20 प्रतिशत अनुदान सब्सिडी के रूप में मिलता है।

निजी भूमि पर बनने वाले तालाब के लिये लोन पाने के लिये आपके पास कुछ दस्‍तावेज होना जरूरी हैं।

  • निजी भूमि की नकल, जमाबंदी व हक सिजरा
  • आवेदक का प्रशिक्षण प्रमाण पत्र
  • मत्‍सय किसान विकास ऐजेंसी के साथ हुआ इकरारनामा
  • शपथ पत्र जिसमें इस बात का उल्‍लेख हो कि आवेदक Machli Palan Loan Yojana के अतिरिक्‍त किसी अन्‍य योजना के तहत सरकारी अनुदान प्राप्‍त नहीं कर रहा है।

तालाब में एरीएटर लगाने व एकीकृत Machli Palan के लिये बैंक लोन

Machli Palan उस समय और अधिक लाभकारी व्‍यवसाय साबित हो जाता है, जब मत्‍सय पालक अपने तालाब में Fish Farming शुरू करता है, तो उसे तालाब में एरीएटर लगाने की जरूरत पड़ती है।

ए‍रीएटर को तालाब से अधिक मछली उत्‍पादन के लिये लगाया जाता है। ए‍रीएटर के लिये बैंक से लोन मिलता है। इस लोन की राशि 50 हजार रूपये होती है। जिस पर 20 प्रतिशत अनुदान सब्सिडी के रूप में मिलता है।

इसी प्रकार तालाब में Machli Palan के साथ कुछ अन्‍य काम भी किये जा सकते हैं। इस प्रकार के कामों को एकीकृत मछली पालन के नाम से जाना जाता है।

एकीकृत मछली पालन करने के लिये भी सरकार Machli Palan Loan Yojana के तहत मछली पालक को 80 हजार रूपये का लोन दिलाने में सहायता करती है और इस लोन पर 20 प्रतिशत अनुदान भी देती है।

एकीकृत मछली पालन बहुत ही फायदे का सौदा होता है। आप तालाब से मछली पालन के साथ साथ मुर्गी पालन और बतख पालन का कार्य करके खूब मुनाफा कमा सकते हैं।

Machli Palan के लिये मछलियों का चुनाव कैसे करें

Machli Palan के लिये जिन मछलियों की प्रजातियां सबसे अच्‍छी मानी जाती हैं, वह इस प्रकार हैं। भारतीय मेजर कार्प रोहू, कतला, टैंगन, पढ़ीन, रीठा, सौंर, गेंड़ हैं। तथा विदेशी मेजर कार्प में कॉमन कार्प, ग्रास कार्प, चायना कार्प तथा सिल्‍वर कार्प आदि हैं।

Machli Palan Loan Yojana SBI

सार्वजनिक क्षेत्र की सबसे बड़ी बैंक जिसे हम भारतीय स्‍टेट बैंक (SBI) के नाम से जानते हैं, देश के हर राज्‍य में मछुआरों व बेरोजगारों को Machli Palan के लिये ऋण उपलब्‍ध कराता है।

एसबीआई की ऋण योजना बहुत अच्‍छी है। 1 लाख रूपये तक के लोन पर आपको भूमि बंधक भी नहीं रखनी पड़ती है।

अधिक जानकारी के लिये इस लिंक पर क्लिक करें

लेकिन यदि ऋण की राशि 1 लाख रूपये से अधिक है, तो आपको अपनी भूमि बंधक रखनी होगी। SBI Loan मछली का व्‍यवसाय करने वाले मछुआरों तथा Machli Palan का ज्ञान रखने वाले किसी भी व्‍यक्ति को दिया जाता है।

यदि आप SBI Fisheries Loan हासिल करना चाहते हैं, तो आप स्‍टेट बैंक की नजदीकी शाखा में जाकर जानकारी प्राप्‍त कर सकते हैं।

Also Read :

Image Courtesy : Pixabay Free Images

Spread the love

1 thought on “Machli Palan Loan Yojana Se Fish Farming Kaise Kare”

Leave a comment