30,000 Rs Uc News Se Kaise Kamaye, If Posts are Pending

Uc News se kaise kamaye per month 30,000 Rs, इस रकम को कमाना आपके लिए इतना आसान नहीं है, जितना आप समझ रहे हैं। असल में आपको हर महीने कितनी रकम मिलेगी यह सब Uc News की मर्जी पर निर्भर करता है।

Uc News Se Kaise Kamaye Full Informatiom in Hindi
Uc News Se Kaise Kamaye

असल में Uc Browser का Uc News कभी आपको Low Income देगा और कभी आपको इतनी High Income देगा कि आप ललचाकर बाकी सारे काम छोड़ कर दिन भर बैठे Uc News के लिए ही आर्टिकल लिखते रहेंगें।

जैसा कि मैं आपको बता रहा हूं कि Uc News Hindi Bloggers को अपनी इसी कार्यशैली से Income उपलब्‍ध करा रहा है। जब उसे आपकी इनकम घटानी होगी तो वह एक हजार बहाने तलाश लेगा।

Uc News Me Pending Post Se Aapki Income Low ho Sakti Hea :

यदि Uc News में आपकी पोस्‍ट बड़ी संख्‍या में पेंडिंग हैं, तो आपका Uc News Se 30,000 Rs per month कमाने का सपना चकनाचूर हो सकता है।

वैसे तो Uc News पेंडिंग posts को सिस्‍टम की खामी मानता है। जब आप Uc News से इस संबंध में सवाल जवाब करते हैं, तो वह रोज लाखों की संख्‍या में पोस्‍ट आने का हवाला देता है और पेंडिंग पोस्‍ट के पब्लिश होने के लिए इंतजार करने को कहता है।

लेकिन मेरी कुछ ब्‍लॉगर साथियों से बात हुई तो उन्‍होंनें मेरा ध्‍यान इस गतिविधि को Income पर नियंत्रण की पॉलिसी की ओर आकृष्‍ट कराया। जो काफी सोच विचार करने और अध्‍ययन करने के बाद बिल्‍कुल सही पाया गया है।

यदि Uc News को लगता है कि आपने बहुत ज्‍यादा रूपए कमा लिये हैं, तो वह आपकी Posts को जानबूझ कर Pending Status में डाल देता है। इतना करते ही आपकी Uc News Income अपने आप Low हो जाती है।

Uc News Se Income Low Hone Ka Dusra Karan Outdated Post Hea :

Uc News Se Income Low Hone Ka Dusra Karan Outdated Post होती हैं। सबसे पहले तो आप ही किसी पुराने और घिसे पिटे विषय पर पोस्‍ट लिख कर Uc News par publish करते हैं। जिसे Uc News खारिज कर देता है।

किसी Post ke Outdated होने की दूसरी मुख्‍य वजह, Uc News की Pending post policy है। वह आपकी मेहनत से लिखी हुई पोस्‍ट को इतने अधिक दिनों तक Pending रखता है, जब तक कि वह Outdated न हो जाए।

एक बार जब आपकी Post कई दिनों तक Uc News me pending रहती है, तो वह बहुत पुरानी हो जाती है। ऐसे में यदि वह पब्लिश हो भी जाए तो उस पर उतने page views नहीं होते जितने होने चाहिए।

Outdated News को Suspend करने में Uc News जरा भी देर नहीं लगाता है। यदि आपकी पोस्‍ट बड़ी मात्रा में Pending हैं और इसी वजह से Outdated होकर Suspend हो रही हैं तो आप  30,000 Rs per month  नहीं कमा सकते हैं।

यह भी Uc News की पॉलिसी का जरूरी हिस्‍सा है। वह कब और कितनी Income आपको देगा, यह उसकी मर्जी पर निर्भर है।

Low Quality Content Likhne Se Aapki Uc News Income Low Ho Sakti Hea :

यदि आप Uc News पर Low Quality Content Likh रहे हैं, तो वह आपकी इनकम इतनी कम कर देगा कि आप इस प्‍लेटफार्म को छोड़ने का ही फैसला ले लेंगें।

Low Quality, Copyright Content पब्लिश करने से आपकी Income बहुत कम हो जाती है। लेकिन यह जरूरी नहीं कि जिस कंटेंट को Uc News Low Quality, Copyright Content बता रहा है, वह वाकई इस श्रेणीं में आता हो।

यदि ईमानदारी से काम किया जाए तो केवल वही कंटेंट आपकी Income Low करेगा, जो सचमुच Low Quality, Copyright Content के दायरे में आता हो।

लेकिन देखने में यह भी आता है कि जो कंटेंट लेखक के द्धारा खुद किसी सूचना या ऐतिहासिक दस्‍तावेज के आधार पर लिखा है, उसे भी Uc News जब Low Quality, Copyright Content बताता है, तो शक होना लाजिमी हो जाता है।

अच्‍छे और खुद के लिखे गए Article को भी यदि Uc News Low Quality, Copyright Content बताकर आपकी Income कम करता चला आ आ रहा है, तो समझ लीजिए कि वह थोड़ा थोड़ा पैसा अन्‍य नए जुड़े लोगों को दे रहा है, या फिर वह यह मानता है कि आपको अपनी मेहनत के एवज में इतने पैसे नहीं मिलने चाहिए।

इस समस्‍या के 2 पहलू हैं, एक तो आप खुद ही Low Quality, Copyright Content लिख कर अपने पैरों पर कुल्‍हाड़ी मारते हैं, या फिर Uc News इस प्रकार का आरोप लगाकर आपकी होने वाली Income पर लगाम लगाने की कोशिश करता है।

Uc News FAQ and Content Policy Ka Palan Na Karne Se Aapki Income Low Ho Jati Hea :

बहुत से लोग Uc News पर अपना Account बनाए हुए हैं और उस पर काम भी कर रहे हैं, लेकिन उन्‍होंनें कभी भी Uc News FAQ and Content Policy को न तो ठीक से पढ़ा है और न ही उसके अनुरूप अपने Article पब्लिश किए हैं।

यही कारण है कि उनकी पोस्‍ट Uc News पर पब्लिश नहीं हो रही हैं। पोस्‍ट पब्लिश न होने की वजह से कुछ लोगों की Income बहुत कम हो गई है।

लेकिन इसका भी दूसरा पहलू है। वह यह कि Uc News लेखकों से अच्‍छे कंटेंट लिखवा कर और फिर बाद में नियम व शर्तों का हवाला देकर उनकी Income Low कर रहा है।

जबकि लेखक 95% तक FAQ and Content Policy Follow कर रहे हैं। इससे यह साबित होता है कि Uc News Income को अपनी मर्जी से जब चाहे कंट्रोल कर सकता है और ऐसा हो भी रहा है।

मैं ऐसा दावे के साथ इसलिए कह सकता हूं कि मेरे साथ कुछ ऐसा ही हुआ है। जिन आर्टिकल्‍स की बदौलत मुझे Uc News ने अच्‍छी Income दी, उसी Uc News को कुछ समय के बाद मेरे आर्टिकल्‍स Low Quality के लगने लगे। हालांकि इस स्थिति में सुधार हो भी सकता है और नहीं भी।

मैंनें कुछ दिन पहले एक Blog पर एक Article पढ़ा है, जिसमें Uc News की सच्‍चाई को बड़े ही विस्‍तार से बताया गया है।

आप यदि FAQ and Content Policy ठीक से Follow कर भी रहें हैं, तो भी यह निश्चित नहीं है कि आप 30,000 Rs per month Uc News se kma payenge. Uc News का पूरा सिस्‍टम ऐसा है, कि वह जब चाहे आपके Wemedia Account को ऊपर ले जा सकता है और जब चाहे नीचे भी गिरा सकता है।

मुझ से बहुत से लोग पूछते हैं कि भाई यदि मेरे किसी हफते 10 लाख पेज व्‍यूज हुए तो मैं कितने रूपए कमा सकता हूं?

ऐसे सवाल सुनकर कभी कभी मुझे हंसी भी आती है, क्‍योंकि यदि किसी व्‍यक्ति के Wemedia Account पर 10 लाख पेज व्‍यूज भी हुए, तो यह जरूरी नहीं कि उसे 100 डॉलर मिल ही जाएंगें।

यह भी हो सकता है कि उसे 10 Lakh Page Views पर केवल 15 डॉलर ही मिलें। इस स्थिति में यदि आपने अपने आर्टिकल Uc News पर नियम और शर्तों को ध्‍यान में रखते हुए लिखें हैं और उन्‍हें Uc News ने Low Quality, Copyright Content कंटेंट मानकर आपको ईमानदारी से पैसा नहीं दिया तो आपको गहरा झटका लग सकता है।

मैंनें अपने इस Blog पर इससे पहले 3 पोस्‍ट लिखी हैं, जो सभी को Uc News से जुड़ने और उस पर Account बनाने के लिए प्रेरित करती हैं। वह सभी पोस्‍ट भी सही हैं।

लेकिन मुझे Uc News पर जुड़े हुए पूरे 3 माह बीत चुके हैं। मेरा अब तक का अनुभव यह कहता है कि यदि Uc News ईमानदारी से काम करे और ईमानदारी से Bloggers की मेहनत का मूल्‍य चुकाए, तो दुनिया में इससे अच्‍छा कोई दूसरा प्‍लेटफार्म नहीं हो सकता है।

लेकिन देखने में यह आ रहा है कि Uc News के द्धारा Bloggers की Income को बहुत ही मूर्खतापूर्णं तरीके से कंट्रोल किया जा रहा है। Uc News के इस प्रयास को किसी भी लिहाज से उचित और न्‍यायोचित नहीं ठहराया जा सकता है।

यदि यह स्थितियां आपके साथ भी रहती हैं, तो यकीन मानिए कि आप Uc News se paise nhi kma payenge. आपकी Monthly Income 50 डॉलर पर सिमट जाएगी।

30,000 Rs Uc News Se Kamane Ke Liye Kya Kare ?

यदि आप 30,000 Rs Per Month Uc News Se Kamana चाहते हैं, तो मेरी आपको सलाह है कि आप हमेशा High Quality Content लिखें जो Unique भी हो।

साथ ही आप Uc News की FAQ and Content Policy को ध्‍यान पूर्वक पढ़ें और उसके अनुरूप ही अपने Article लिखें। वैसे देखने में यह आता है, कि अच्‍छे कंटेंट को Uc News पर न तो Page Views मिलते हैं और न ही Visitors.

लड़कियों, महिलाओं से होने वाली छेड़छाड़, उनके साथ की जाने वाली अभद्रता और बलात्‍कार जैसी घटनाओं पर आधारित लेखों की चटपटी हैडिंग बना कर देश के बड़े मीडिया घरानों की वेबसाइटस के द्धारा Uc News पर पोस्‍ट पब्लिश की जा रही है।

जिससे उन्‍हें Uc News से पैसा कमाने का खूब मौका मिल रहा है। लेकिन जो Bloggers वास्‍तव में High Quality Content लिखते हैं, उन्‍हें Uc News पैसा देने में आनाकानी कर रहा है।

ऐसी स्थिति में आप अपने साथ हो रहे अन्‍याय के खिलाफ आवाज बुलंद कीजिए और अपने अधिकारों के लिए लडि़ए।

क्‍योंकि यदि आपने अपना विरोध दर्ज नहीं कराया तो यह स्थिति कभी सुधरने वाली नहीं है। इसके अलावा यदि आपकी पोस्‍ट पेंडिंग हैं तो आप Uc News को पोस्‍ट पब्लिश करने के लिए मेल कीजिए।

यदि आपकी पोस्‍ट कोई Current Issue पर आधारित है, तो आप उस पोस्‍ट को पब्लिश करने के लिए दबाव बनाइए और उनसे कहिए कि वह आपकी पोस्‍ट Outdated करके उसे Suspend न करे।

यदि आपको लगता है कि आपने कोई गलती नहीं की है और फिर भी आपकी Income जरूरत से ज्‍यादा कम दर्शाई जा रही है, तो तुरंत विरोध कीजिए और अपनी शिकायत दर्ज कराते हुए सवाल जवाब कीजिए।

इसके अलावा यदि आपकी पोस्‍ट पर प्रति सप्‍ताह बहुत कम विजिटर आ रहे हैं तो समझ लीजिए कि दाल में कुछ काला है। जब आपकी पोस्‍ट Uc News के होम पेज पर दिखाई ही नहीं जाएगी तो Visitors आएंगें कहां से?

जाहिर सी बात है जब विजिटर ही नहीं आएंगें तो Page Views अपने आप कम हो जाएंगें। इस‍ स्थिति में आपका Uc News se 30,000 Rs per month kamane का सपना टूट जाएगा।

यदि विरोध दर्ज कराने के बावजूद भी हालात में सुधार संभव न हो रहा हो, तो मेरी सभी Blogger बंधुओं से मेरी अपील है कि वह सख्‍त रूख अपनाते हुए अपना Wemedia Account बंद करा दें।

और अपने Blogs और Websites पर लिखने को प्राथमिकता दें। याद रखिए कि हम ब्‍लॉगर हैं। हमारा काम है Unique and High Quality Content लिखना।

यदि Uc News को आपके Articles दोयम दर्जे के प्रतीत हो रहे हैं, तो बेहतर है कि आप यह आर्टिकल अपनी साइट पर पब्लिश कीजिए और गूगल से पैसे कमाइए।

थोड़े पैसे कम आएंगें लेकिन भविष्‍य में इस प्रकार का लेखन हमें और अधिक ऊंचाइयों पर ले जाएगा।

तो यह थी मेरी आज की बहुत ही महत्‍वपूर्णं पोस्‍ट 30,000 Rs Uc News Se Kaise Kamaye, If Posts are Pending आपको कैसी लगी ? अपने विचारों से मुझे अवगत जरूर कराइएगा। मुझे पूरा विश्‍वास है कि आपको जो परेशानियां हो रही हैं, इस पोस्‍ट के माध्‍यम से आपको उनसे छुटकारा पाने का बहुत साहस मिलेगा।

तो दोस्‍तों फिर मिलते हैं एक और जरूरी पोस्‍ट के साथ। तब तक अपन ख्‍याल रखिए और Uc News की बारीकियां समझने का प्रयास कीजिए।

Photos Via Google, Labeled for Reuse :

Spread the love

48 thoughts on “30,000 Rs Uc News Se Kaise Kamaye, If Posts are Pending”

  1. Aapne Kafi Achhi Tarah Se batai, Wo To hum Blogger Hi Bebkuf Hai jo Chand Paise Aur Bina Thos policy Ke rahte Hue Hum Article Published karte hai, Kya Kare Berojgari hi Itna Hai ki Log 30Rs Me Bhi Article Likh Dete hai, Is Sab Ka Fayada Uc News Wale Utha Rahe hai, Galti Uski Nahi Hamari Hai Jub Hame Pata Hai Uski Policy Ke Anusar Aur Wo Apne Man Ki Hisab Se Kisi Ko Nicha Upar kar sakte hean Nahi, Chhodiye Mujhe Is Chkkar me Nahi Padna..!

    Reply
  2. वैसे आपने अच्छे तरीके से इस लेख में सब कुछ लिख दिया है.
    यहाँ भी मेरे पेज-व्यूज अचानक बहुत ज्यादा हुए हैं. अब इसे तो UC News ही जाने.

    Reply
  3. आपने UC के बारे में detail से सभी को बताने का प्रयास किया और बिल्कुल सही भी लिखा कि वह हज़ारो बहाने ढूंढ लेते है आर्टिकल ससपेंड करने के या low income के लिए। मेरा भी एक और एकाउंट था जिसपर सिर्फ jokes थे (mostly pictures के रूप में लिखे हुए), जिसे उन्होंने बिना reason बताये suspend कर दिया और तो और मेरी 100 plus पोस्ट pending थी,जिनमें से 90 से अधिक सभी एकदम से suspend।

    अभी उन्हें mail किया है,लेकिन अभी तक कोई reply नही, थोड़ा इंतजार करता हूँ, नही तो एक बार मेरा भी इसपर एक पोस्ट लिखकर प्रयास रहेगा कि लोग UC के बारे में समझे और इसे कम-से-कम इस्तेमाल करे ।

    और तो और कई बार तो न्यूज़ आउटडेटिड होती भी नही और कह देते है कि पुरानी है,और inspirational आर्टिकल को कह देते है कि इसमें senstive words है। इनका हिसाब यह अपनी मन मर्जी से चला रहे है। अगर ऐसा ही रहा तो जल्द ही शायद सभी bloggers इससे किनारा कर ले और शायद इसी लिए कुछ बड़े bloggers ने इन्हें अभी तक नही चुना।

    और तो और article जितना मर्जी बढ़िया हो,कई बार तो रीडर्स तक ही नही जाता ।

    शायद जल्द ही UC से किनारा करना पड़ेगा।

    और आप एक बात बताईये आपने अपना RSS FEED नही दिया क्या? और अगर नही तो क्यों? और जो आर्टिकल्स आप UC पर डालते है वह ब्लॉग पर क्यों नही?

    Reply
    • निखिल भैया, आपका जो एकाउंट बंद हुआ है उसके पीछे रीज़न यह है कि UC News चुटकुलों वाली और Jobs से रिलेटिड पोस्टस और एकाउंटस को प्रमोट नहीं करता है। ऐसा मुझे एक इमेल के जवाब में बताया गया था। इसके अलावा अन्य दूसरे जो कारण हैं वह बहुत ही गंभीर हैं। ऐसा प्रतीत हो रहा है कि कुछ रिश्तेदारों और बड़े मीडिया घरानों को छोड़ कर यूसी न्यूज किसी को भी इनकम देना नहीं चाहता है। शायद यही वजह है कि लोगों की इनकम अचानक से 15-20 डॉलर पर सिमट गई है। ब्लांगर्स के साथ जो कुछ भी हो रहा है, इसके पीछे गहरी साजिश प्रतीत हो रही है।

      Reply
      • लेकिन मेरी उनके साथ फ़ोन पर बात हुयी थी ,कहते कि टेंशन मत लीजिये और जब बाद में हुयी तो सीधा कह दिया कि यह काम पीछे से टीम देखती है । चलो कुछ टाइम और देखते है ,नहीं तो शायद इसे छोड़ना ही पड़े ।
        उम्मीद करता हूँ बाकी के bloggers को न दिक्कत आ रही हो ।

        Reply
        • निखिल जी, जितने भी पुराने एकाउंटस है, उन सभी को दिक्कत आ रही है। न तो पोस्ट पब्लिश हो रही हैं, न ही ट्रेफिक है और न ही इनकम। लोग मुझसे बहुत से सवाल करते हैं। लेकिन सवालों के जवाब भी नहीं हैं। कोई सोल्यूशन आता दिखाई दे तो किसी की मदत कर पाउं। यहां सब उल्टा ही हो रहा है।

          Reply
  4. Thanks jamshed ji uc news par article publish karne k bad me ab iska khyal chhod chuka hu. Kyo ki uc news real me manmani karta h. Or fkuch log km paise k lalach me bhi gulami karte rahte h agar ek hokar iaka virodh hua to ise jhuka sakta h. Lekin iake liye hame ek hona padega

    Reply
    • कुमार जी, अपना फोन नंबर ईमेल पर दीजिए। साथ ही यह बताइए कि बिल्ली के गले में घंटी कौन बांधे और कैसे बांधे।

      Reply
  5. बहुत अच्छी जानकारी दी है आपने….
    ब्लागर्स को अपने हक के लिये Uc News से सवाल जबाब करने चाहिये यदि Uc News अपने ही नियमों पर खरा नहीं उतर रहा है तो ऐसे में वहां अपना समय व posts नष्ट न करने में ही समझदारी होगी …….

    Reply
    • सही कहा आपने। शायद उसे लगता है कि पढ़े लिखे लोगों का शोषण आसानी से किया जा सकता है।

      Reply
  6. uc news vastav me manmani kar raha hai,wo amarujala,hindustan,dainik, news paper ki sare artical ko na rokta hai na hi pending karta aur hamara 4 day se 5 day tk post pending me rakhta hai..

    Reply
    • UC News 4 से 5 दिन नहीं छोटें और अनआर्गानाइज्ड सेक्टर की वेबसाइटस के आर्टिकल्स 15 – ।5 दिन तक पेंडिंग रखता है, जब तक कि वह Outdated न हों जाएं। हां चुटकुलों वाली पोस्ट चुटकियों में पब्लिश कर देता है। और इनकम के नाम पर उनसे कहता है कि चुटकुलों वाली पोस्ट निम्नरस्तरीय होती हैं। इसलिए आपकी इनकम काट ली गई है। बड़े अखबारों की वेबसाइटस से 100 आर्टिकल रोज लेकर अपने होम पेज पर डालता है और अनआर्गनाइज्ड सेक्टर के ब्लॉगर्स के लिए 10 पोस्ट डेली का नियम बना रखा है। शायद उसे लगता है कि पढ़े लिखे लोगों का शोषण आसानी से किया जा सकता है।

      Reply
  7. jamshed bhai apki har post ki tarah bhi ye post powerfull hai aap ne us news ke baare me bahut achha likha hai. or me apko ek baat kahu ki apka comment reply karne ka tareeka bahut passand aya. Thanks for sharing bhai age bhi yese post likhta rahe

    Reply
  8. जमशेद जी आपने बिल्कुल सही कहा UC News हम bloggers का शोषण कर रहा है । मुझें तो UC News पर उच्च गुणवत्ता युक्त लेख कम अश्लीलता ज्यादा नजर आती है ।

    Reply
    • इसमें तो कोई 2 राय नहीं है कि UC News पर हमारा शोषण हो रहा है। साथ ही चटखारे दार खबरें और फीचर इमेजिस वाली खबरों की भरमार है। यदि आपने मुझे सब्सक्राइब किया है तो आपने मेरे आर्टिकल्स भी पढ़े होंगें। मैं आपको बताउं जितने भी अच्छे आर्टिकल्स हैं उन पर पेज व्यूज किसी पर 40 हैं तो किसी पर हजार या डेढ़ हजार। अब बताइए कि इनकम कहां से होगी। घटिया क्वालिटी के आर्टिकल्स पर UC News अपनी सफलता की गाथाएं हम सभी को सुना रहा है और गर्व से फूला नहीं समा रहा है। किसी ने सच ही कहा कि भइया ऐसा कलयुग आएगा कि कौआ मोती खाएगा और बगुले के हाथ कुछ न आएगा।

      Reply
    • रोहन भाई, UC News की नजर में वह आर्टिकल घटिया यानि Low Quality का होता है, जो कहीं से चुरा कर लिखा गया हो और जिसके कॉपीराइट अधिकार किसी और के पास हों। साथ ही फोटोग्राफस यदि आपके खुद के खींचें हुए नहीं हैं। तो वह भी निम्न स्तरीय माना जाएगा। लेकिन इसमें थोड़ा टिवस्ट है। सूचना अथवा तथ्यों पर आधारित समाचार या लेखों पर इस तरह का कोई भारतीय कानून लागू नहीं होता, जब तक कि उसे हू ब हू यानि जस का तस कॉपी न किया गया हो। यदि हिमालय पर्वत पर पहले 1000 आर्टिकल लिखे हुए हैं, तो दुनिया का या भारत का कानून आपको फिर से अपना खुद का आर्टिकल लिखने से नहीं रोक सकता।
      लेकिन UC News के अधिकारी जरूरत से ज्यादा पढ़े लिखे मालूम पड़ रहे हैं। इन्हें आता जाता तो कुछ नहीं है। इसलिए बे सिर पैर के आरोप अच्छे लेखकों और ब्लागर्स पर लगा रहे हैं। हां पूंजीपतियों के मीडिया घरानों जैसे भास्कर, दैनिक जागरण, अमर उजाला, एबीपी न्यूज आदि को कुछ भी और कितना ही गंदा लिखने की छूट दे रखी है।

      Reply
  9. जमशेद जी आपने बहुत ही व्यवहारिक article लिखा है। अपने ही पूर्व संबंधित articles में कहीं हुईं बातों को निरुत्साहित करने के लिये बहुत व्यवहारिक और सुलझी सोच चाहिये। जो कि बिरले ही दिखाई देती है।

    निश्चित रूप से हम ब्लॉगर्स, ब्लॉगिंग में अपना career खोजते हैं। लेकिन आपके इस article से समझ आया कि long terms में स्थायित्व तभी है जब हम अपने blog को, अपनी blogging श्रेणी को उतार-चढ़ाव में भी धैर्य के साथ कायम रखते हैं।

    इतना बढ़िया article लिखने के लिये साधुवाद। आपकी शैली, सोच एवम भाषा स्वस्थ और उत्कृष्ट है। कानाफूसी का भविष्य बहुत ही उज्ज्वल है।

    Blogging ज़मात के लिये आप अवश्य UC-मुहिम छेड़ें और उसका नेतृत्व करें। शुभकामनायें।

    Reply
  10. सही कहा जमशेद जी आपने । मैंने ध्यान दीया uc न्यूज़ हमारे व्यूज भी चोरी करता है। मेरे एवरेज में 30 से 50 हज़ार व्यूज आ रहे थे । लेकिन एक दिन मेरे व्यूज 2.5 लाख से ऊपर पहुंच गए उस दिन मेरे पोस्ट पर कमेंट भी ज्यादा आ रहे थे इसलिए मैं उनको रिप्लाई कर रहा था तब मैंने इस बात का ध्यान दिया की अगले दिन जो मेरे पेज व्यूज शो हो रहे थे उनमें करीबन 90 हजार कम थे । क्योंकि मैं करीब 11 बजे इसे लास्ट बार चेक किया था तब 2.5 लाख से ऊपर थे । और दूसरे दिन 90 हजार कम व्यूज शो हो रहे थे।
    और एक बात जिस हप्ते मेरे करीब 1 लाख व्यूज मिले उस हप्ते मुझे 25 डॉलर दिया गया और जिस हप्ते हमें 8 लाख के करीब व्यूज मिले उस हप्ते केवल 50 डॉलर ही मिले मेरे हिसाब से कम से कम 150 डॉलर तो मिलने ही चाहिए थे।

    Reply
    • ऐसा आपके साथ बहुत गलत हुआ है। ि‍सिर्फ आपके साथ ही नहीं बहुत से लोगों के साथ ऐसा हो रहा है। आपको तो 50 डॉलर मिल गए उनसे पूछिए कि जिनके 7 से 10 लाख पेज व्‍यूज हुए और उन्‍हें केवल 10 डॉलर ही मिले। उनके दिल पर क्‍या बीत रही होगी। जब तक UC News मैन्‍युली हस्‍तक्षेप और नियंत्रण करता रहेगा, इस प्रकार की जालसाजी और धोखेबाजी ब्‍लागर्स के साथ होती रहेगी। मेरी सलाह मानिए। जितनी कम हो सके अपनी रचनाएं UC News में पोस्‍ट कीजिए। याद रखिए आप जिस विषय पर लिख कर UC News में पोस्‍ट कर रहे हैं, उस विषय पर आप अपनी वेबसाइट पर भी लिख सकते हैैं। यदि आप यूं ही उसे लिख कर बिना पर्याप्‍त पैसे के पोस्‍ट देते रहे, तो हम ब्‍लॉगर के पास अपनी साइट पर लिखने को कुछ नहीं बचेगा। और पुराने विषय कॉपीराइटिंग के दायरे में आ जाएगें। UC News पर्याप्‍त पैसा देता रहे तो कोई बुराई नहीं है। लेकिन बिना पैसे के पोस्‍ट देना बेवकूफी है।

      Reply
  11. जमशेद जी आपसे एक और सवाल है। मैं जिस क्षेत्र में रहता हूं। उस क्षेत्र के किसी भी बैंक का स्विफ्ट कोड नहीं है। और लखनऊ में भी कुछ गिनी चुनी बैंको में ही यह कोड उपलब्ध है। तो uc न्यूज़ से पेमेण्ट कैसे ले ।

    Reply
    • आप किस शहर से हैं स्‍पष्‍ट कीजिए। स्विफट कोड सभी सीबीएस बांचों में होता ही है। आप यूनियन बैंक ट्राई कीजिए। लखनऊ की हर बैंक में स्विफट कोड जरूर होगा। जल्‍दी जवाब दीजिए। ताकि मैं आपकी मदत कर सकूं।

      Reply
  12. Howdy Sir,

    Apne bahut Achhi Jankari Share ki Hai ! Website ka Old Version check krne ke liye!

    And Mera Apse ek Question Hai mera blog Hindi Me Hai Or Traffic Bhi Accha Hai Lekin ab mai usko English Me Move krna chahta hu iske liye mai apse advice Lena chahta hu kya ye sahi hai!!

    Or Abbi Mera blog Hindi Me Hai Agar Mai isko Completely English Me Move Kr Deta hu To Traffic Me Difference Aayega kya??

    Reply
    • यदि आप एडसेंस ले चुके हैं, तो आपने एडसेंस लेते समय अपनी साइट की लैंग्‍वेज भी ि‍डिसाइड की होगी। हिंदी से अंग्रेजी पर शिफट करने में कोई बुराई नहीं। पर यह अवश्‍य देखना कि क्‍या आप अपने एडसेंस एकाउंट में साइट की लैंग्‍वेज चेंज कर पाते हैं या नहीं। शुद्ध इि‍ग्लिश में तो कन्‍वर्ट करना ठीक है, लेकिन यदि आप रोमन हिंदी में कन्‍वर्ट करना चाह रहे हैं, तो मेरी सलाह है कि अपनी साइट को हिंग्लिश में कन्‍वर्ट मत कीजिएगा। सभी बड़े ब्‍लागर रोमन हिंदी से हिंदी में कन्‍वर्ट हो रहे हैं।

      Reply
  13. hello आज़मी सर मैंने लखनऊ के यूनियन बैंक इंडिया की मैन शाखा में नया अकाउंट ओपन करने के लिए सम्पर्क किया तो उन्होंने बताया कि आप केवल हमारी शाखा का स्विफ्ट कोड डाले और बाकि आपको नया अकाउंट ओपन करने की जरूरत नहीं है। जबकि मेरा अकॉउंट सीतापुर जिले की बैंक में है।
    क्या इससे मुझे पेमेंट में कोई दिक्कत तो नहीं आएगी
    प्लीज बताये

    Reply
    • अनूप जी मैंनें कोशिश की जानने की। लेकिन मुझे थोड़ी दिक्कत आ रही है। मैं कल आपकी समस्या का जरूर समाधान करने की कोशिश करूंगां। आप चिंता मत कीजिए और किसी भी हालत में अधूरी बैंक डिटेल भरने की कोशिश मत कीजिए। वैसे भी बैंक डीटेल भरने के बाद उसके एप्रूव्ड होने में 10 से 15 दिन का समय लग जाता है। थोड़ा धैर्य रखिए।

      Reply
  14. बहुत अच्छी तरह से लिखा और दिलचस्प ब्लॉग साझा करने के लिए धन्यवाद !!

    Reply
  15. हिंदी ब्लॉगर्स की इस कम्युनिटी को मेरा सलाम ! काफी सारे इंटरेस्टिंग ब्लोग्स देखने मिले इस वेबसाइट के सहारे तो विशेष रूप से जमशेद आज़मी आपका धन्यवाद! इस आर्टिकल से मिलता विषय है इसीलिए लिख रहा हूँ आश्वासन है आपका साथ मिलेगा.

    मैं एक न्यूज़ एप्प न्यूज़डॉग के लिए ब्लॉगर्स पार्टनरशिप देखता हूँ. न्यूज़डॉग एक बहुत अच्छा एप्प है उभरते और प्रोफेशनल ब्लॉगर्स को ज्यादा से ज्यादा रीडर्स प्राप्त करने का और साथ ही साथ एक स्थिर वेतन प्राप्त करने का. न्यूज़डॉग वीमीडिया प्लेटफार्म लेखकों के लिए एक अनोखा माध्यम है जहाँ वो 10 मिलियन से भी ऊपर पाठकों तक पहुँच कर एक प्रभावशाली लेखक के रूप में उभर सकते हैं | इसमें भाग लेने के लिए यहाँ रजिस्टर करें: http://mp.newsdog.today
    मैं आप सभी की निराशा समझ सकता हूँ परन्तु यह भी आश्वासन दिलाता हूँ कि न्यूज़डॉग की टीम अवास्तविक वायदे करने में विश्वास नहीं रखती और पूरे पारदर्शिता के साथ काम करती है. अधिक जानकारी और व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करने के लिए समपर्क करे 9560127384

    हिंदी भाषा का कंटेंट ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुचें यही आशा लेकर आपसे संपर्क करना उचित समझा. आप न्यूज़डॉग को गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड कर सकते है.

    अनुचित वर्तनी के लिए क्षमा चाहता हूँ.

    संकेत रास्कर
    व्हाट्सप्प: +8615011346069

    Reply
  16. लेकिन मैं जब 11:30 रात में आईपीएल का पोस्ट डालता हु तो वो पेंडिंग कर देता ह और सुबह में ससपेंड ऐसा क्यों मैं तो रियल टाइम और सबसे पहले डालता हूं

    Reply
  17. (जवाब जरूर दे) लेकिन मैंने सुना है कि uc न्यूज़ हमको 50% से 55% कमीसन देता है एसे में क्या uc news को भी पैसे नही बचेगे क्या ऐसी ऐशी स्थिति में uc news ऐड कंपनियों को पैसे वापिस कर देता होगा या खुद रख लेता होगा

    Reply
    • आप एक बात अच्छी तरह समझ लें। वह यह कोई भी कंपनी कभी भी घाटे का सौदा नहीं करती है। आजकल Uc News कंटेंट लिखने वालों को पर्याप्त पैसे भी नहीं दे रहा है। बहुत बड़ी तादात में लोगों ने इस पर लिखना या तो कम कर दिया है या फिर बंद कर दिया है। दूसरी बात यह है कि Uc News हमें 100% रेवन्यू शेयर नहीं देता है। इस लिहाज से जो भी हमें इनकम मिलती है वह बहुत ही कम होती है। मसलन उसने हमें 100 डालर दिए। तो वह 200 डॉलर कमा भी लेगा। उसने कमाए 300 और आपको दिए 100. इसलिए आप यूसी न्यूज की चिंता न करें, आपको सिर्फ अपनी फिक्र होनी चाहिए।

      Reply
  18. (जवाब जरूर दे) सर 1 पैन कार्ड से कितने अकाउंट बना सकता हूँ

    Reply
    • आप एक पैनकार्ड से 4 एकाउंट बना सकते हैं। अलग अलग कैटेगरी में एकाउंट बनाएं।

      Reply
  19. (इसमे जरूर मदद करे) एडसेंस T/c में लिखा है एक बार अगर एडसेंस आपका अकॉउंट हमेसा के लिए बैन हो जाये तो आप कभी नया एडसेंस अकॉउंट नही बना सकते तो क्या अगर मेरा अकाउंट हमेसा के लिए गूगल द्वारा बैन कर दिया जाए तो में कही youtube और ब्लॉगिंग में एडसेंस उपयोग नही कर पाऊंगा सच या इसका कोई उपाय भी है

    Reply
    • आदित्य। जी, आप जब भी कमेंट किया करें तो वेबसाइट वाले बॉक्स में अपनी साइट का URL जरूर भरा कीजिए। मुझे लगता है कि आप वेबसाइट चलाते हैं, यदि मैं उस लिंक के जरिए आपकी साइट को चेक करने के लिए जाउं तो इससे आपकी साइट का ट्रेफिक ही बढ़ेगा। आप मेरी यह पोस्ट जरूर पढ़ें कि कमेंट से ब्लाग का ट्रेफिक कैसे बढ़ाएं।
      दूसरी महत्वपूर्णं बात अभी तक यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि आपका एकाउंट क्यों बैन हुआ है। ज्यादातर मामलों में इनवेलिड क्लिक एक्टिविटी के कारण ऐसा होता है। आप थोड़ा स्पाष्टता से मुझे बताइए। जहां तक बात है, आप अपील के जरिए अपने एकाउंट से बैन हटवा सकते हैं। यदि फिर भी बैन न हटे तो भी भविष्या में आपको एडसेंस मिल जाएगा। लेकिन कैसे यह अभी सीक्रेट है। बाद में बताउंगा। यदि आप इस संबंध में मुझसे संपर्क करेंगें तो। फिलहाल आप News Dog पर एकाउंट बनाइए। मेरी लेटेस्ट पोस्ट पर पहला लिंक एकाउंट बनाने के लिए ही है।

      Reply
  20. UC news के साथ मेरा experience बहुत बुरा रहा है. मेरे कई original पोस्ट पेंडिंग और suspend होने के बाद मैं यही कहूँगा की जो ब्लोग्गेर्स uc से earn करने की कोशिश कर रहे है अगर अपनी उस एनर्जी को अपने blogging पर लगाये तो ज्यादा बेहतर होगा. आप बहुत मेहनत से uc पर कोई पोस्ट लिखते है और वह outdated होकर suspend हो जाये तो क्या फायदा.

    Reply
    • विनोद जी, Uc News के साथ मेरा अनुभव भी अच्छा नहीं रहा है। लेकिन मजबूरी में अब भी जुड़ा हुआ हूं। लेकिन पोस्ट लिखना कम कर दिया है। उसकी जगह अपनी वेबसाइट पर ध्यान दे रहा हूं।

      Reply
  21. Thank Your,, sabse pahle to,

    Apne Bahut Hi Badiya Jankari share ki Hai.. Esase Hum Bloggers Ko jarur fayda milega. dhanyawad infromation share karne ke liye

    Reply
  22. Uc news har bar mere post ko suspend kar deta tha koi na koi bahana bna kar mujhe nhi pata tha ki uc news itna fraud krta hai shukria apki wajah se bahut kuchh sikhne ko mila.

    Reply

Leave a comment