{मुफ्त} Free Boring Yojana Uttar Pradesh Me Awedan Kaise Kare

Free Boring Yojana Uttar Pradesh | Uttar Pradesh Free Boring Yojana | Free Boring Scheme in UP | Free Boring Scheme in UP in Hindi | UP Boring Online | Nishulk Boring Yojana |

भारत में कृषि आज के आधुनिक काल में भी वर्षा जल पर निर्भर करती है। इसका कारण यह है कि देश में आज भी सिंचाई के पर्याप्‍त साधन विकसित नहीं हो पाये हैं।

लेकिन देश की केंद्र व राज्‍य सरकारों की ओर से सिंचाई के साधन किसानों को प्रदान करने के लिये अनेक योजनायें संचालित की जा रही हैं।

इन्‍हीं में से एक योजना हिंदी भाषी उत्‍तरप्रदेश में चलाई जा रही है। जिसका नाम Free Boring Yojana Uttar Pradesh है।

Free Boring Yojana Uttar Pradesh कब शुरू हुई थी

Uttar Pradesh Free Boring Yojana in Hindi
फ्री बोरिंग से टयूबवेल लगवाने की पूरी जानकारी हिंदी में

निशुल्‍क बोरिंग योजना का संचालन उत्‍तर प्रदेश सरकार के लघु एवं सिंचाई विभाग के द्धारा पिछले कई सालों से किया जा रहा है।

इस योजना की शुरूआत सन 1985 में की गयी थी। फ्री बोरिंग योजना नारायण दत्‍त तिवारी तथा वीर बहादुर के समय लागू की गयी थी।

अब यह तो स्‍पष्‍ट नहीं है कि फ्री बोरिंग योजना कांग्रेस सरकार के मुख्‍यमंत्री नारायण दत्‍त तिवारी अथवा वीर बहादुर सिंह में से किसने शुरू की थी। पर यह दोनों सन 1985 में उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री थे।

Uttar Pradesh Free Boring Yojana 2020 के प्रकार

  • {1} उथले नलकूप योजना
  • {2} मध्‍यम गहरे नलकूप योजना
  • {3} गहरे नलकूप योजना

निशुल्‍क बोरिंग योजना 2020 (उथले नलकूप योजना) की पूरी जानकारी Step by Step

उथले नलकूप योजना के तहत फ्री बोरिंग के नियम एवं दिशा निर्देश विस्‍तार से नीचे दिये जा रहे हैं। कृप्‍या इन्‍हें विस्‍तार पूर्वक पढ़ें।

अनुसूचित जाति / जनजाति के किसानों को सरकारी सहयता 2020

निशुल्‍क बोरिंग योजना के तहत (उथले नलकूप श्रेणीं) में अनुसूचित जाति / जनजाति के किसानों को 10,000 रूपये का अधिकतम अनुदान दिया जाता है।

इस योजना के तहत न्‍यूनतम जोत संबंधी किसी प्रकार की कोई बाध्‍यता नहीं है। इसके अलावा बोरिंग के समय 10 हजार रूपये में से कुछ धनराशि बच जाती है।

तो किसान बची हुई रकम से डिलीवरी पाइप, बेंड तथा रिफ्लेक्‍स आदि चीजों को खरीद सकते हैं, जो बोरिंग सेटअप में काम आते हैं।

इसके अलावा यदि अनुसूचित जाति, जनजाति के किसान उथले नलकूप योजना के तहत पंपसेट भी बोरिंग के दौरान स्‍थापित करते हैं, तो उन्‍हें अधिकतम 9000 रूपये का अनुदान अलग से प्राप्‍त होता है।

अपर कास्‍ट के लघु एवं सीमांत किसानों को सरकारी सहायता 2020

उथले नलकूप योजना के तहत उत्‍तर प्रदेश में लघु एंव सीमांत किसानों को क्रमश: 5 हजार तथा 7 हजार रूपये की सरकारी सहायता प्रदान की जाती है।

लेकिन सामान्‍य जाति के लघु एवं सीमांत किसानों किसानों के लिये 0.2 हेक्‍टेयर जोत सीमा निर्धारित की गयी है।

इस वर्ग के किसानों को पंपसेट लगाना अनिवार्य नहीं है। लेकिन यदि कोई किसान पंपसेट को खरीद कर बोरिंग में स्‍थापित करता है, तो उसे क्रमश: 4,500 तथा 6000 रूपये का अतिरिक्‍त अनुदान सहायता के रूप में मिलता है।

HDPE पाइप खरीद के लिये सरकारी सहायता 2020

शासनादेश संख्‍या 955/62-2-2012, दिनांक 22 मार्च 2016 से 110MM साइज के पाइप लगाने की अनुमति प्रदान कर दी गयी है।

पहले केवल HDPE पाइप 90MM साइज के पाइप लगाने की ही अनुमति दी जाती थी। फ्री बोरिंग योजना के तहत पाइप लागत का 50 प्रतिशत यानि 3000 रूपये अधिकतम अनुदान किसानों को प्रदान किया जाता है।

Pumpset खरीद के लिये सरकारी सहायता 2020

किसानों की सुविधा के लिये बोरिंग के पश्‍चात पंप सेट लगाने के लिये नाबार्ड के द्धारा खरीद योजना लागू की गयी है। इस योजना के तहत अलग अलग हार्सपावर के पंपसेट खरीदे जा सकते हैं।

इन पंपसेटों की खरीद पर विभिन्‍न बैंकों के द्धारा ऋण प्रदान किया जाता है। इन पंपसेटों को रजिस्‍टर्ड दुकानों से खरीदा जा सकता है। इसके अलावा इस योजना के तहत ISI मार्का पंप खरीदना अनिवार्य है।

फ्री बोरिंग योजना उथले नलकूप योजना pdf Form Download करने के लिये इस लिंक पर क्लिक करें

Nishulk Boring Yojana 2020 (मध्‍यम गहरे नलकूप योजना श्रेणी) की जानकारी Step By Step

Nishulk Boring Yojana Madhyan Gehre Category
मध्यम गहरे श्रेणीं की बोरिंग सेटअप का पूरा विवरण

उत्‍तरप्रदेश फ्री बोरिंग योजना के तहत मध्‍यम गहरे नलकूप श्रेणीं की बोरिंग उन स्‍थानों पर की जाती है। जहां बोरिंग की गहराई 31 मीटर से 60 मीटर तक होती है।

यह योजना प्रदेश के एल्‍यूवियल क्षेत्रों में लागू है। साथ ही इस योजना के दायरें में सभी जातियों के किसानों को शामिल किया गया है।

इस बोरिंग योजना की दूसरी बड़ी शर्त यह है कि बोरिंग होने के पश्‍चात कम से कम 6 हेक्‍टेयर शुद्ध तथा 10 हेक्‍टेयर सकल भूमि अवश्‍य सिंचिंत की जानी चाहिए।

इस बोरिंग योजना का पूरा कार्य छोटी तथा हल्‍की मशीनों के द्धारा संपन्‍न किया जाता है।

मध्‍यम गहरे नलकूप (फ्री बोरिंग योजना) के तहत अनुदान 2020

इस श्रेणी के नलकूप की बोरिंग कराने के लिये लागत का 50 प्रतिशत अनुदान प्रदान किया जाता है। जो अधिकतम 75 हजार रूपये होता है।

इस योजना के तहत नलकूप निर्मांण की लागत में में ड्रिलिंग, पाइप, पंप हाऊस, डिलीवरी टैंक तथा अन्‍य सामग्रियों के व्‍यय भी शामिल किये जाते हैं।

इस श्रेणीं के नलकूप के लिये विद्धुतीकरण के लिये अलग से 68 हजार रूपये की सरकारी सहयता किसानों को प्रदान की जाती है।

तथा जल वितरण प्रणाली के लिये अलग से 10 हजार रूपये का अनुदान भी दिया जाता है। लेकिन यदि किसी कारणवश किसान के खेत में बोरिंग असफल हो जाती है।

तो किसान को बोरिंग पर हुए व्‍यय का 10 प्रतिशत अधिकतम 1 हजार रूपये काट कर शेष राशि लौटा दी जाती है।

फ्री बोरिंग योजना मध्‍यम गहरे नलकूप योजना pdf Form Download करने के लिये इस लिंक पर क्लिक करें

Free Boring Yojana Uttar Pradesh (गहरे नलकूप श्रेणी) की विस्‍तृत जानकारी

Free Boring Yojana Uttar Pradesh Deep Category in Hindi
डीप बोरिंग योजना का पूरा विवरण

यूपी में बहुत से ऐसे इलाके भी हैं, जहां भूगर्भीय जलस्‍तर बहुत नीचे है। इसलिये इन इलकों में गहरे नलकूप श्रेणीं की Free Boring Scheme लागू की गयी है।

इस योजना के तहत भारी मशीनों के द्धारा बोरिंग की जाती है। तथा कम से कम 60 मीटर गहरी बोरिंग होना बेहद जरूरी है।

लेकिन पठारी क्षेत्रों में रिंग मशीन के द्धारा की जा रही बोरिंग पर गहराई संबंधी कोई प्रतिबंध नहीं लगाया गया है।

गहरे नलकूप श्रेणी बोरिंग योजना के तहत कम से कम 20 हेक्‍टेयर भूमि की सिंचाई होना आवश्‍यक है। इसके अलावा इस श्रेणीं में सभी जाति तथा वर्गों के किसानों को लाभ प्रदान किया जाता है।

गहरे नलकूप योजना के तहत मिलने वाले अनुदान की राशि 2020

इस योजना के तहत किसानों को बोरिंग की लागत का 50 प्रतिशत अनुदान प्रदान किया जाता है। जोकि अधिकतम 1,00,000 रूपये होता है।

इस लागत में बोरिंग के समय लगने वाले सामान को भी सम्मिलित किया गया है। इसके अलावा विद्धुतीकरण के लिये अलग से 68 हजार रूपये की सरकारी सहायता भी मिलती है।

तथा जल वितरण प्रणाली के लिये 1 हजार रूपये की धनराशि भी प्रदान की जाती है। लेकिन यदि किसी कारण वश बोरिंग असफल हो जाती है तो किसान को बोरिंग पर हुए व्‍यय का 10 प्रतिशत काट कर जोकि अधिकतम 1000 रूपये होता है। शेष राशि लौटा दी जाती है।

फ्री बोरिंग योजना गहरे नलकूप योजना pdf Form Download करने के लिये इस लिंक पर क्लिक करें

Free Boring Scheme उत्‍तरप्रदेश में Online आवेदन कैसे करें

आपकी जानकारी के लिये बता दें कि उत्‍तरप्रदेश में वर्ष 2020 में निशुल्‍क बोरिंग योजना के लिये Online आवेदन की कोई सुविधा मौजूद नहीं है। इसलिये कृप्‍या फार्म भर कर अपने जिले के लघु सिंचाई विभाग में जाकर जमा करें।

आप तीनों श्रे‍णियों के फार्म ऊपर दिये दिये तीनों लिंकों के जरिये घर बैठे डाउनलोड कर सकते हैं।

निशुल्‍क बोरिंग योजना  in UP में आवेदन कैसे करें

यदि आप अपने खेत मे Free Boring करवा कर नलकूप स्‍थापित करने की सोच रहे हैं, तो आप ऊपर दिये गये लिंक की सहायता से किसी भी श्रेणीं का फार्म डाउनलोड कर सकते हैं।

उथले नलकूप योजना, मध्‍यम गहरे नलकूप योजना तथा गहरे नलकूप योजना के पीडीएफ फार्म आसानी से डाउनलोड किये जा सकते हैं।

आप जिस श्रेणी में आवेदन करना चाहते हैं, आपको उस श्रेणीं का आवेदन पत्र भरना होगा और सभी जरूरी दस्‍तावेज सलंग्‍न करके तथा नवीनतम फोटो चस्‍पा करके लघु सिंचाई विभाग के कार्यलय में जाकर जमा करना होगा।

आपके द्धारा फार्म जमा करते ही, आवेदन पत्र की जांच शुरू की जाती है। यदि आप पात्र पाये जाते हैं, तो आपका चयन Free Boring Yojana के तहत कर लिया जाता है और आपको इस योजना से संबंधित सभी लाभ प्रदान कर दिये जाते हैं।

Also Read :

Spread the love

Leave a comment