Solar Charkha Mission Yojana Hindi Me Jankari – MSME Scheme 2018

विगत 27 जून 2018 को भारत के राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद ने एक बहुत ही महत्‍वाकांक्षी योजना लांच की है। जिसका नाम Solar Charkha Mission है। यह योजना Pradhanmantri Rozgar Srajan Mission के तहत देश के कारीगर समाज के लिये लायी गई है।

Solar Charkha Mission Yojana Me Awedan Kaise Kare
सोलर चरखा मिशन योजना

इस योजना के तहत पूरे देश में Solar Charkha को बढ़ावा दिया जाएगा। Solar Charkhe के इस्‍तेमाल से कारीगरों को समय और श्रम की बचत तो होगी ही, साथ ही देश में खादी के कपड़े के उत्‍पादन में में भी वृद्धि दर्ज की जाएगी।

Ministry of Micro, Small & Medium Enterprises (MSME) ने अभी Solar Charkha Mission 2018 के तहत अपनी नई गाइडलाइन, नियम व शर्तें आदि अभी आधिकारिक रूप से अपनी वेबसाइट पर जारी नहीं किये हैं। इसलिये अभी यह बता पाना कठिन है कि इस Solar Charkha Mission Yojana Me Online / Offline Apply Kaise किया जाएगा।

लेकिन इस योजना के बारे में अब तक जितनी भी जानकारी मौजूद है, नीचे उसके बारे में विस्‍तार से बताया जा रहा है।

Solar Charkha Mission Yojana Hindi Me

Solar Charkha Mission Scheme के तहत देश के बुनकर समाज के कारीगरों को साधारण चरखे के बजाए सोलर चरखे का इस्‍तेमाल करने के लिये प्रोत्‍साहित किया जाएगा।

इस योजना के तहत भारत सरकार अगले 2 सालों तक 550 करोड़ रूपये की सब्सिडी देने जा रही है। इस योजना का मूल उद्देश्य कारीगर समाज और विशेष रूप से कपड़ा बुनने के काम में लगीं देश की 5 करोड़ महिलाओं को पहले की अपेक्षा और अधिक आत्‍मनिर्भर बनाना है।

आपकी जानकारी के लिये यह बताना भी आवश्‍यक है, कि  Solar Charkha Mission Yojana बहुत पुरानी है और इस पर पहले भी सब्सिडी दी जाती रही है।

लेकिन वर्तमान केंद्र सरकार ने इस योजना को अधिक उन्‍नत बना कर नये सिरे से लांच किया है। जिसकी वजह से अब इसका प्रचार प्रसार तो होगा ही, साथ में पहले की अपेक्षा सोलर चरखे पर अधिक सब्सिडी भी दी जाएगी।

Solar Charkha Mission Yojana Ke Uddeshy

सोलर चरखा मिशन योजना के उद्देश्य ऐसे हैं, जिनकी वजह से यह बहुत ही आकर्षक योजना साबित होने वाली है। देश की महिलाओं का वह तबका जो खादी के कपड़े के निर्मांण कार्य से जुड़ा है, वह इस योजना का लाभ उठाने के लिये आतुर दिखाई पड़ रहा है।

  • इस योजना का मुख्‍य उद्देश्य यह है कि इसके माध्‍यम से मृत प्राय हो चुकी खादी उद्धोग को फिर से जीवित किया जा सके।
  • वर्तमान में पारंपरिक चरखे का इस्‍तेमाल करके कारीगर 8 घंटे काम करके केवल 160 रूपये प्रतिदिन के हिसाब से कमाते हैं। लेकिन Solar Charkhe के इस्‍तेमाल से कारीगर 360 रूपये प्रतिदिन कमा सकेंगें।
  • इस योजना के माध्‍यम से MSME सूत कातने वाले मजदूर / बुनकरों की आय में तत्‍काल वृद्धि करना और उन्‍हें रोजगार के नए मौके उपलब्‍ध कराना है। ताकि बुनकर समाज के जीवन स्‍तर को ऊंचा और बेहतर बनाया जा सके।
  • चरखा देश की पारंपरिक धरोहर होने के साथ साथ लोगों की आजीविका का भी साधन है। इसलिये देश की पारंपरिक कलाओं से संबंधित कुटीर, लघु व मध्‍यम श्रेणीं के उद्धोगों को बढ़ावा देना व उनका संरक्षण करना है।
  • इस योजना के तहत ग्रामीण भारत (Rural India) में कम लागत के नए उद्धोग अथवा प्रोजेक्‍ट लगाए जाएंगें। जिसकी वजह से ग्रामीण भारत की महिलायें नये अपने गांव में ही नए प्रोजेक्‍ट लगाने और उन पर काम करने के लिये प्रोत्‍साहित होंगीं।
  • सोलर चरखे पर काम करके महिलायें अधिक सूत कात पाएंगीं, जिससे उनकी आय में बढ़ोत्‍तरी होना तय है।

Solar Charkha Mission Yojana Ke Labh

चूंकि Ministry of Micro, Small & Medium Enterprises (MSME) की यह योजना बहुत ही आकर्षक है, इसलिये इस योजना के लाभ भी बहुत हैं। आइए Solar Charkha Mission के लाभों के बारे में जानें।

  • Solar Charkha पूरी तरह पर्यावरण फ्रेंडली होगा। इसलिये इससे पर्यावरण को भी सुरक्षा मिलेगी।
  • इस योजना के माध्‍यम से ग्रामीण स्‍तर पर ही नए रोजगार का सृजन होगा। जिससे गांव से शहरों की ओर होने वाला पलायन रूकेगा।
  • Solar Charkha Mission के जरिये लोगों को सौर ऊर्जा के महत्‍व की जानकारी मिलेगी।
  • इस योजना के माध्‍यम से पंचायत स्‍तर पर 1100 लोगों को रोजगार मिलेगा व देश भर में 5 करोड़ लोगों को रोजगार अवसर भी मिलेंगें।
Solar Charkha Mission Yojana Subsidy and Project Hindi Me (2016 की योजना के अनुसार)

जैसा कि मैंनें आपको ऊपर बताया कि सोलर चरखा मिशन जैसी योजना पहले से मौजूद है और सोलर चरखे को बढ़ावा देने के लिये केंद्र सरकार सब्सिडी भी देती आई है।

यदि Solar Charkha Mission Yojana को सन 2016 के परिप्रेक्ष्‍य में देखें तो हम पायेंगें कि सोलर चरखा मिशन के लिये पहले भी सब्सिडी और बढ़ावा दिया जाता रहा है।

Solar Charkha Business के लिये सरकार Prime Minister Employment Generation Programme के तहत Loan दिया जाता है।

इस बिजनेस की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि इसमें लागत बहुत कम आती है और मुनाफा अधिक होता है।

सोलर चरखे से संबंधित प्रोजेक्‍ट की लागत लगभग 24 लाख 87 हजार रूपये आती है। जो व्‍यक्ति इस प्रोजेक्‍ट को लगाता है। उसे प्रोजेक्‍ट की कुल धनराशि का केवल 10 फीसदी हिस्‍सा ही लगाना पड़ता है। जोकि 2 लाख 48 हजार रूपये होता है।

यानि कि 10 फीसदी हिस्‍सा प्रोजेक्‍ट लगाने वाले को खर्च करना पड़ता है और बाकी की 90 प्रतिशत धनराशि को PMEGP के तहत Bank Loan के रूप में मिलती है।

इस लोन की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि लोन के रूप में प्राप्‍त धनराशि में 25 प्रतिशत धनराशि प्रोजेक्‍ट लगाने वाले को सब्सिडी के रूप में प्राप्‍त होती है।

इसके अलावा जितना भी बैंक ऋण प्राप्‍त हुआ है, उस पर किसी भी प्रकार का ब्‍याज चुकाना नहीं पड़ता है। यानि कि Solar Charkha Mission Yojana के अंतर्गत Interest free bank loan प्राप्‍त होता है, ब्‍याज रहित ऋण होने की वजह से इसे चुकाना बेहद आसान होता है।

Solar Charkha Mission Yojana Me Awedan Kaise kare

Solar Charkha Mission Yojana में ऑनलाइन आवेदन करना वर्तमान में संभव नहीं है। इसके बारे में नई गाइडलाइन या अलग से कोई पोर्टल अभी मौजूद नहीं है।

जैसे ही इस योजना से संबंधित कोई नई सूचना प्राप्‍त होगी, उसे समय पर इस पोस्‍ट में अपडेट कर दिया जाएगा। तब प्रतीक्षा करें और हमारी वेबसाइट पर मौजूद अन्‍य पोस्‍ट पढ़ते रहें।

इन पोस्‍ट को भी जरूर पढ़ें

Spread the love

Leave a comment