मौन पालन उत्तराखंड में पंजीकरण कैसे करें – Maun Palan Uttarakhand Registration 2022

Maun Palan Uttarakhand Registration 2022 : उत्‍तराखंड सरकार के द्धारा प्रदेश के बेरोजगार युवाओं को स्‍वरोजगार के लिये प्रेरित करने के उद्देश्य से मौन पालन योजना शुरू की है। इस योजना के तहत पूरे राज्‍य में शहद उत्‍पादन ईकाइयों की स्‍थापना करना है।

यह योजना उत्‍तराखंड के State Horticulture Mission के तहत चलाई जा रही है। Maun Palan Uttarakhand के तहत प्रदेश  सरकार के द्धारा मधुमक्‍खी पालन कर शहद उत्‍पादन करने वाले युवाओं को 80% सब्सिडी प्रदान की जायेगी।

मौन पालन योजना उत्‍तराखंड के तहत सरकार विभिन्‍न जिलों में पंचायत स्‍तर पर मधु ग्राम का निर्मांण करेगी। चूंकि यह योजना मुख्‍य रूप से ग्रामीण इलाकों में शहद उत्‍पादन के लिये बनाई गयी है। इसलिये इस योजना को मधु ग्राम योजना या मधु विकास योजना के नाम से भी जाना जाता है।

आज की इस पोस्‍ट में हम आपको Maun Palan Yojana Uttarakhand | Madhumakhi Palan Yojana Uttarakhand | Madhu Gram Yojana Uttrakhand | Madhu Vikas Yojana | Maun Palan Training | Maun Palan Registration Uttarakhand | मधुमक्‍खी पालन रजिस्‍ट्रेशन के बारे में विस्‍तार से स्‍टेप बाई स्‍टेप जानकारी प्रदान कर रहे हैं। कृप्‍या इस पोस्‍ट को अंत तक पढ़ कर मौन पालन योजना उत्‍तराखंड का लाभ उठायें।

Maun Palan Uttarakhand योजना क्‍या है – मधुमक्‍खी पालन उत्‍तराखंड 2022

Maun Palan Uttarakhand Registration Process in Hindi
मौन पालन योजना उत्‍तराखंड

मौन पालन योजना उत्‍तराखंड सरकार की एक बहुत ही महत्‍वाकांक्षी योजना है। इस योजना के तहत उत्‍तराखंड के 13 जिलों में मधु ग्राम स्‍थापित करने के लिये ग्राम पंचायतों का चयन किया गया है।

इस योजना को लांच करने के पीछे सरकार की मंशा ग्रामीण इलाकों में रोजगार उपलब्‍ध करा कर शहरों की ओर होने वाले पलायन की दर को कम करना है। साथ ही प्रदेश को शहद उत्‍पादन की दृष्टि से आत्‍मनिर्भर बनाना है।

Maun Palan Uttarakhand वर्तमान समय में पूरे राज्‍य में इस समय लगभग 7 हजार मौन पालक किसान हैं। जो प्रदेश में 2200 मीट्रिक टन शहद का उत्‍पादन कर रहे हैं।

अब नयी योजना अधिक से अधिक बेरोजगार युवाओं को मधुमक्‍खी पालन से जोड़ेगी और शहद उत्‍पादन में इजाफा करेगी। इस योजना को सफल बनाने के लिये प्रदेश सरकार मौन पालकों को 80 फीसदी तक सब्सि‍डी देने जा रही है। ताकि अधिक से अधिक लोगों को इस योजना से जोड़ा जा सके।

Maun Palan Uttarakhand Yojana 2022

Madhu Gram Yojana Details
Madhu Gram Yojana Details

जैसा कि हमनें आपको ऊपर बताया कि मौन पालन योजना उत्‍तराखंड के तहत सरकार 80 प्रतिशत तक सब्सिडी दे रही है। प्रदेश में फलों का उत्‍पादन बढ़ाने के लिये परागण तथा शहद उत्‍पादन के लिये 1 हैक्‍टेयर क्षेत्र में 04 मौन बक्‍सों को रखा जायेगा।

जिनमें प्रत्‍येक मौन बॉक्‍स हेतु 350 रूपये प्रति बॉक्‍स तथा मौन बॉक्‍स कॉलोनियों के वितरण में 50 प्रतिशत आर्थिक सहायता प्रदान की जायेगी।

Maun Palan Uttarakhand Highlights 2022

  • योजना का नाम – Maun Palan Uttarakhand / मधु ग्राम योजना उत्‍तराखंड
  • राज्‍य – उत्‍तराखंड
  • लाभार्थी वर्ग – प्रदेश के बेरोजगार युवा
  • योजना का संचालन – हॉर्टिकल्‍चर मिशन के द्धारा
  • उद्देश्य – प्रदेश को शहद उत्‍पादन में अग्रणी राज्‍य बनाना
  • योजना की अवधि – वर्तमान में चल रही है
  • आधिकारिक वेबसाइट – क्लिक करें

मौन पालन योजना सब्सिडी

1 – प्रति बॉक्‍स 350 रूपये की सहायता

2 – मौन बॉक्‍स मौन कॉलोनियों का वितरण में देय सहायता राशि 50%

3- मौन पालकों को मधुमक्‍खी पालन ट्रेनिंग के तहत शत प्रतिशत आर्थिक सहायता

मधु ग्राम योजना / मौन पालन योजना की विशेषतायें

1 – Madhu Gram Yojana उत्‍तराखंड के तहत 80% तक सब्सिडी प्रदान की जा रही है।

2 – इस योजना के तहत प्रति लाभार्थी अधिकतम 4 मौन बॉक्‍स दिये जायेंगें।

3 – 800 रूपये प्रति व्‍यक्ति की दर से 10 मौन गृह वंश प्रदान किये जायेंगें।

4 – उत्‍तराखंड मधुमक्‍खी पालन के लिये 7 दिन की Training प्रदान की जायेगी।

5 – मौन पालन के तहत प्रशिक्षण पर 100% आर्थिक सहायता दी जायेगी।

6 – मौन पालकों को एक सप्‍ताह के प्रशिक्षण पर प्रति प्रशिक्षणार्थी 350 रूपये खर्च किये जायेंगें तथा अवशेष धनराशि के तहत 700 रूपये की धनराशि सीधे Training कर रहे व्‍यक्ति के बैंक खाते में ट्रांसफर किये जायेंगें।

7 – इस योजना के तहत प्रशिक्षण पर कुल व्‍यय प्रति प्रशिक्षणार्थी 1050 रूपये होगा।

मधुमक्‍खी पालन योजना उत्‍तराखंड के लाभ

1 – उत्‍तराखंड की मौन पालन योजना / मधु ग्राम योजना / मधुविकास योजना / मुख्‍यमंत्री शहद उत्‍पादन योजना के तहत युवाओं को स्‍वरोजगार मुहैयया कराया जा रहा है।

2 – इस योजना के जरिये उत्‍तराखंड में गांवों से शहरों की ओर होने वाले पलायन को रोका जा सकेगा।

3 – उत्‍तराखंड में शहद उत्‍पादन पूरी तरह जैविक होगा।

4 – मधुमक्खियां शहद उत्‍पादन करने के साथ साथ पर-परागण की क्रिया तेजी से करेंगीं, जिससे राज्‍य में फलों का उत्‍पादन में भी बढ़ोत्‍तरी होगी।

5 – उत्‍तराखंड में उत्‍पादित होने वाले शहद का अन्‍य प्रदेशों तथा विदेशों में निर्यात किया जा सकेगा।

6 – Maun Palan को प्रोत्‍साहित करने वाली पुस्‍तक जिसे मुख्‍य उद्धान अधिकारी हरिश्रचंद्र ने लिखा है, इस पुस्‍तक को मधु ग्राम योजना के तहत प्रशिक्षणार्थियों को वितरित किये जाने का प्रस्‍ताव अभी लंबित है। भविष्‍य में यह पुस्‍तक सभी लाभार्थियों को निशुल्‍क प्राप्‍त हो सकेगी।

7 – इस योजना के तहत 500 मौन पालन बॉक्‍स वितरित किये जाने की योजना है। इन बॉक्‍स से मौन पालको को दूसरे वर्ष से प्रतिवर्ष ढाई लाख रूपये की आय होगी।

Documents Required for Madhumakhi Palan Yojana Uttarakhand

  • आधार कार्ड
  • राशन कार्ड
  • मतदाता पहचान पत्र
  • निवास प्रमाण पत्र
  • मोबाइल नंबर
  • नवीनतम फोटो

Maun Palan Uttarakhand Yojana Form कहां से प्राप्‍त करें

इस योजना का लाभ उठाने के लिये आपको सबसे पहले मौन पालन उत्‍तराखंड योजना 2022 का फार्म हासिल करना होगा। यह फार्म आपको अपने जिले के उद्धान विभाग कार्यालय में निशुल्‍क मिल जायेगा। मौन पालन फार्म उत्‍तराखंड को आप उद्धान कार्यालय में जाकर ले लें।

मौन पालन योजना में आवेदन कैसे करें?

Maun Palan Yojana Uttarakhand में Registration करने के लिये आपको सबसे पहले मधुमक्‍खी पालन योजना का फार्म हासिल करना है।

1 – इसे आप अपने जिले के उद्धान कार्यालय में जाकर ले लें।

2 – अब आप इस फार्म को साफ साफ अक्षरों में भरें।

3 – फार्म में पूछी गयी जानकारियों आपको सही सही भरनी है। कोई भी गलत जानकारी न भरें।

4 – फार्म भर जाने के बाद इस पर नवीनतम फोटो चिपकायें

5 – फार्म के साथ सभी जरूरी दस्‍तावेजों को संलंग्‍न करें।

6 – अंत में भरे हुये फार्म को जिला उद्धान कार्यालय में जमा कर दें।

7 – यदि आपका चयन इस योजना के तहत हो जाता है, तो आपको 7 दिवसीय प्रशिक्षण के लिये आमंत्रित कर लिया जायेगा।

उत्‍तराखंड के किन जिलों में मधु ग्रामों की स्‍थाप‍ना की जायेगी?

उत्‍तराखंड के 13 जिले मधु ग्राम स्‍थापित किये जाने के लिये चयनित किये गये हैं। जिनमें पौड़ी के चमराड़ा ख़िरसु, चमोली के कल्याणी नौटी, रुद्रप्रयाग के ऊंचाढूँगी अगस्तमुनि, हरिद्वार के मकदुमपुर नारसन और देहरादून के थाना रायपुर, नैनीताल के ज्योलीकोट, उधम सिंह नगर के बिगराबाग खटीमा, अल्मोड़ा के असलोगी द्वाराहाट, बागेश्वर के भीलकोट, पिथौरागढ़ के धारचूला, चंपावत के सिप्टी, उत्तरकाशी के नाकुरी डूंगा, टिहरी के बनाली नरेंद्र नगर आदि हैं। इन सभी मधु ग्रामों में शहद उत्‍पादन ईकाइयां लगा कर बड़े पैमाने पर शहद उत्‍पादन किया जायेगा।

FAQ – अक्‍सर पूछे जाने वाले सवाल

उत्‍तराखंड में मौन पालन को बढ़ावा क्‍यों दिया जा रहा है?

उत्‍तराखंड एक पहाड़ी राज्‍य है। यहां वर्ष भर फूलों लगे रहते हैं, ऐसे में यहां अच्‍छी क्‍वालिटी के शहद उत्‍पादन की पूरी संभावना है।

क्‍या उत्‍तराखंड के शहद की अन्‍य राज्‍यों में मांग है?

जी हां, उत्‍तराखंड के शहद की देश के अन्‍य राज्‍यों में भारी मांग है क्‍योंकि यहां का शहद बहुत गुणवत्‍ता युक्‍त होता है।

एक मधुमक्‍खी बॉक्‍स से कितना शहद प्राप्‍त होता है?

एक मधुमक्‍खी बॉक्‍स से लगभग 22 किलो शहद आसानी से प्राप्‍त हो जाता है।

Maun Palan Uttarakhand के तहत उत्‍तराखंड के पर्वतीय क्षेत्रों में बॉक्‍स के साथ कौन सी मधुमक्‍खी पालकों को दी जायेगी?

उत्‍तराखंड के पहाड़ी इलाकों में एपिस सिराना इंडिका नामक मधुमक्‍खी मौन पालन योजना के तहत दी जायेगी।

राज्‍य के मैदानी इलाकों के लिये कौन सी मधुमक्‍खी (Honey Bee) का चयन किया गया है?

राज्‍य के मैदानी इलाकों के लिये एपिस मैलिफेरा मधुमक्‍खी के जरिये शहद उत्‍पादन कराया जायेगा।

एक मधु ग्राम में कितने बॉक्‍स स्‍थापति होंगें?

एक मधुग्राम में 50 बॉक्‍स लगाये जायेंगें।

मुख्‍यमंत्री मधु विकास योजना क्‍या Maun Palan Uttarakhand का दूसरा नाम है?

जी हां, मौन पालन उत्‍तराखंड मुख्‍यमंत्री मधु विकास योजना का दूसरा नाम है।

तो दोस्‍तों यह थी हमारी आज की पोस्‍ट Maun Palan Uttarakhand Registration Kaise Kare | यदि आप Maun Palan Yojana Form Pdf Download से संबंधित कोई अन्‍य प्रश्‍न पूछना चाहते हैं तो आप हमसें कमेंट बॉक्‍स के जरिये पूछ सकते हैं।

Spread the love

2 thoughts on “मौन पालन उत्तराखंड में पंजीकरण कैसे करें – Maun Palan Uttarakhand Registration 2022”

  1. शहद उत्पादन के लिए महत्वपूर्ण योजना है। युवाओं को इस योजना का लाभ उठाकर अपने स्वरोजगार को शुरू करना चाहिए। योजना की जानकारी के लिए धन्यवाद।

    Reply
  2. शहद उत्पादन के लिए उत्तराखंड सरकार की बेहतरीन योजना।

    Reply

Leave a comment