Mera Pani Meri Virasat Online Registration Kaise Kare – मेरा पानी मेरी विरासत योजना ऑनलाइन अप्लाई

Mera Pani Meri Virasat Online in Haryana : हरियाणा में मुख्‍यमंत्री मनोहर लाल खटटर के द्धारा पिछले दिनों मेरा पानी मेरी विरासत योजना लांच की गयी थी। यह योजना विशेष रूप से हरियाणा के डार्क जोन में शामिल इलाकों में धान की खेती छोड़ने व अन्‍य कृषि विकल्‍पों को अपनाने वाले किसानों को प्रोत्‍साहित करने से लागू की गयी है।

Mera Pani Meri Virasat Yojana 2020 को राज्‍य के उन इलाकों में लागू किया गया है, जो इलाके डार्क जोन में हैं तथा यहां भूगर्भीय जल स्‍तर 40 मीटर की गहराई से ज्‍यादा नीचे चला गया है।

प्राप्‍त जानकारी के अनुसार मेरा पानी मेरी विरासत योजना के तहत राज्‍य के ऐसे 19 ब्‍लॉक का चयन किया गया है। जिनमें से 8 ब्‍लॉक तो ऐसे हैं जहां धान की फसल बहुतायत में की जाती है। चूंकि धान की फसल को अधिक पानी की जरूरत होती है। इसलिये राज्‍य सरकार चाहती है, कि यहां के किसान धान की रोपाई को छोड़ कर खेती की अन्‍य फसलों की ओर अपना रूख करें।

Mera Pani Meri Virasat Scheme Details in Hindi : मेरा पानी मेरी विरासत योजना की पूरी जानकारी हिंदी में

Mera Pani Meri Virasat Yojana हरियाणा सरकार धान की रोपाई न करने वाले किसानों को 7 हजार रूपये एकड़ की दर से प्रोत्‍साहन राशि भी प्रदान कर रही है।

Mera Pani Meri Virasat Scheme Kya Hai : मेरा पानी मेरी विरासत योजना हरियाणा में डार्क जोन में हो रही धान की खेती की परंपरा को बदलने के मकसद से लागू की गयी है। सरकार चाहती है इस जोन के 19 ब्‍लॉकों के किसान धान की रोपाई को त्‍याग कर अन्‍य फसलों की ओर अपना रूझान बढ़ायें।

जिसके लिये हरियाणा सरकार धान की रोपाई न करने वाले किसानों को 7 हजार रूपये एकड़ की दर से प्रोत्‍साहन राशि भी प्रदान कर रही है।

Mera Pani Meri Virasat Yojana Haryana के लागू हो जाने के बाद राज्‍य के जिन ब्‍लॉकों में भूगर्भीय जल स्‍तर 35 मीटर से नीचे है। वहां पंचायती भूमि पर धान की खेती की अनुमति नहीं मिलेगी।

Mera Pani Meri Virasat Yojana हरियाणा के तहत राज्‍य के कौन कौन से इलाके शामिल किये गये हैं?

हरियाणा में 19 ब्‍लॉकों में 8 ब्‍लॉक जहां धान की खेती किसानों की प्राथमिक फसल है व भूगर्भीय जल स्‍तर 40 मीटर से अधिक नीचे जा पहुंचा है।

इन इलाकों में कैथल के सीवन, सिरसा व गुहला, कुरूक्षेत्र जिले के इस्‍माइलाबाद, पिपली, बबैन व शाहाबाद तथा फतेहाबाद का रतिया आदि क्षेत्र शामिल हैं।

इसके अलावा इस योजना के दायरे में उन इलाकों को भी शामिल किया गया है, जहां 50 हार्सपॉवर क्षमता से अधिक टयूबवेल प्रयोग किये जा रहे हैं।

Also Read :

Haryana Mera Pani Meri Virasat Yojana का लाभ उठाने वाले किसान कौन सी फसलों की खेती कर सकते हैं

  • अरहर
  • मूंग
  • उड़द
  • मक्‍का
  • तिल
  • कपास
  • साग सब्जियों की खेती आदि कुछ और फसलें

मेरा पानी मेरी विरासत योजना का किसान विरोध क्‍यों कर रहे हैं?

आपकी जानकारी के लिये बता दें कि मेरा पानी मेरी विरास स्‍कीम हरियाणा में विवादित योजना का रूप ले चुकी है। हरियाणा में इस योजना के लांच होने के बाद जो किसान प्रभावित हो रहे हैं, उन्‍होंनें ‘किसान बचाओ – खेती बचाओ’ नाम से ट्रेक्‍टर मार्च भी इस योजना के खिलाफ निकाला है।

किसानों का मत है कि राज्‍य सरकार को यह तय नहीं करना चाहिये कि किसान अपने खेत में क्‍या बोएं और क्‍या नहीं। किसान जानते हैं कि उनके खेत की मिटटी किस प्रकार की फसल के उपयुक्‍त है। इसलिये सरकार को जबरन फसल बदलने का दबाव डालने से बचना चाहिये।

साथ ही किसानों यह भी कहना है कि Mera Pani Meri Virasat Scheme के तहत किसानों को जो प्रोत्‍सा‍हन राशि दी जा रही है। वह अपर्याप्‍त है। ऐसे में किसान यदि धान की फसल को छोड़ कर खेती के अन्‍य विकल्‍प आजमाते हैं, तो उन्‍हें बड़ा नुकसान हो सकता है। ऐसे में किसानों के सामने आजीविका का गहरा संकट खड़ा हो सकता है।

हरियाणा मेरा पानी मेरी विरासत योजना की विशेषतायें क्‍या हैं?

  • ऐसे किसान जिन्‍हें राज्‍य में धान की फसल रोपने से रोका जा रहा है, उन्‍हें सरकार की ओर से आर्थिक सहायता प्रदान की जा रही है, ताकि उन्‍हें परंपरागत फसल का त्‍याग करने में कोई असुविधा न हो।
  • हरियाणा के सभी डार्क जोन में आने वाले क्षेत्रों के किसानों को धान की फसल का त्‍याग करने के एवज में प्रति एकड़ 7000 रूपये की प्रोत्‍साहन राशि प्रदान की जाएगी।
  • जो किसान धान की फसल रोपना छोड़ देंगें, उन्‍हें कपास, अरहर, मूंग, मक्‍का, तिल व विभिन्‍न प्रकार की सब्जियों की खेती करने के लिये प्रोत्‍साहन भी दिया जाएगा।
  • मेरा पानी मेरी विरासत योजना के बारे में विस्‍तार से जानकारी देने तथा किसानों की समस्‍याओं के निवारण के लिये एक वेब पोर्टल भी लांच किया जाएगा।
  • हरियाणा के अन्‍य ब्‍लॉकों के धान उत्‍पादक किसान यदि चावल की खेती को छोड़ कर अन्‍य फसलों को अपनाने चाहते हैं, तो वह भी इस योजना के तहत आवेदन कर सकते हैं।
  • यह योजना राज्‍य के सभी जिलों में लागू है।

Mera Pani Meri Virasat Yojana Haryana के लाभ

  • मेरा पानी मेरी विरासत स्‍कीम का लाभ हरियाणा के सभी धान उत्‍पादक किसानों को मिलेगा।
  • इस योजना के प्रभावी हो जाने के बाद, राज्‍य के भूमिगत जल स्‍तर में बढ़ोत्‍तरी दर्ज की जाएगी। जिससे राज्‍य की भावी पीढि़यों को पीने के लिये शुद्ध भूमिगत जल सुलभ हो सकेगा।
  • जो किसान इस योजना के तहत आवेदन करेंगें, उन्‍हें दलहनी फसलों एवं मक्‍का आदि की खेती में काम आने वाली बुवाई तथा अन्‍य फार्म संबंधी मशीनों के साथ साथ माइक्रो इरीग्रेशन, ड्रिप इरीगेशन आदि के लिये 85 प्रतिशत सब्सिडी भी प्रदान की जाएगी।
  • धान की खेती छोड़ने वाले सभी किसानों की अन्‍य फसलों को राज्‍य सरकार के द्धारा न्‍यूनतम समर्थन मूल्‍य पर ही खरीदा जाएगा।

मेरा पानी मेरी विरासत Scheme के मुख्‍य बिंदू जो हरियाणा में लागू हैं

  • मेरा पानी मेरी विरासत योजना के तहत 8 खंडों (ईस्‍माइलाबाद, सिरसा, बबैन, शाहबाद, पिपली, गुहला, सिवान, रतिया) के उन गांवों में जिनका भूमिगत जल स्‍तर 40 मीटर से अधिक नीचे चला गया है। वहां के किसानों को मक्‍का, कपास, अरहर, मूंग, बाजरा, फल तथा सब्जियों की खेती करने की सलाह दी जाती है। इस योजना के तहत धान क्षेत्र के 50% में फसलों का विविधीकरण किया जाना है।
  • इस योजना का लाभ उठाने वाले किसानों की वैकल्पिक फसलों का बीमा कृषि विभाग के द्धारा सरकारी खर्चे पर ही किया जाएगा।
  • ऐसे 8 ब्‍लॉक जो बाढ़ग्रस्‍त क्षेत्र में स्थित हैं। जहां फसल वि‍विधीकरण हो पाना संभव नहीं है, उन इलाकों में इस योजना के तहत किसान संबंधित कृषि अधिकारी के समक्ष बासमती किस्‍म, सीधी बिजाई (DSR) के द्धारा धान लगाना व धान की बिजाई करने के लिये आवेदन कर सकेंगें।
  • ऐसे सभी किसान जो 50 हार्स पॉवर की इलेक्ट्रिक मोटर के जरिये अपने टयूबवेल को चला रहे हैं, उन्‍हें धान न रोपने की सलाह सरकार की ओर से दी जा रही है।
  • Mera Pani Meri Virasat Scheme के तहत आवेदन वेब पोर्टल पर किसान स्‍वयं कर सकते हैं। इसके अलावा कॉमन सर्विस सेंटर्स अथवा कृषि विभाग के मार्फत भी पंजीकरण कराया जा सकता है।
  • इस योजना के तहत मक्‍का की खेती करने वाले किसानों को मक्‍का की नमी कम करने के लिये अनाज मंडियों के द्धारा मक्‍का ड्रायर भी उपलब्‍ध कराये जाएंगें।

मेरा पानी मेरी विरासत योजना के लिये जरूरी दस्‍तावेज

  • हरियाणा का मूल निवास प्रमाण पत्र
  • आधार कार्ड
  • पहचान पत्र
  • भूमि की खसरा खतौनी की नकल
  • बैंक खाता पासबुक की फोटोकॉपी
  • मोबाइल नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ

Mera Pani Meri Virasat Scheme Toll Free Number

मेरा पानी मेरी विरासत योजना के तहत किसानों की सुविधा के लिये कृषि विभाग द्धारा एक टोल फ्री नंबर जारी किया है। जिसकी डीटेल आपको नीचे दी जा रही है।

मेरा पानी मेरी विरासत टोल फ्री नंबर – 1800 180 2117

मेरा पानी मेरी विरासत योजना में आवेदन कैसे करें?

How to Apply for Mera Pani Meri Virasat Scheme : मेरा पानी मेरी विरासत हरियाणा में पंजीकरण कैसे करें, इस बारे में हम आपको विस्‍तार से जानकारी देने जा रहे हैं। कृप्‍या ध्‍यान से पढ़ें।

मेरा पानी मेरी विरासत योजना में आवेदन करने के लिये सबसे पहले आधिकारिक वेबसाइट 117.240.196.237 पर जाना होगा।

Mera Pani Meri Virasat Online Registration Process in Hindi

  • आप जैसे ही ऊपर दिये गये Link पर Click करेंगें वैसे ही Mera Pani Meri Virasat Portal के Home Page पर पहुंच जाएंगें।
  • यहां आपको ऊपर की ओर फसल विविधीकरण के लिये पंजीकरण करें का एक विकल्‍प दिखाई पड़ेगा।
  • आप इस पर क्लिक करें। इतना करते ही आप Next Page पर पहुंच जाते हैं।

Now Fill Your Online Application Form

  • अब आप अपना आधार नंबर डालें और सबमिट बटन पर क्लिक करें।
  • अगले पेज पर पहुंचते ही आपको Farmer Details Fill करनी हैं। और Next बटन पर क्लिक करना है।
  • अब आप Total Land Holding की जानकारी भरनी है।
  • अंत में फसल का विवरण भर कर फार्म को सबमिट कर देना है।
  • इस तरह आपका पंजीकरण इस योजना के तहत हो जाएगा।

यदि आपको कंप्‍यूटर अथवा मोबाइल पर आवेदन करने में किसी प्रकार की कोई समस्‍या आ रही है तो आप अपना पंजीकरण CSC अथवा कृषि विभाग में भी जाकर करा सकते हैं।

तो दोस्‍तों यह थी हमारी आज की पोस्‍ट Mera Pani Meri Virasat Online Registration Kaise Kare यदि आप Mera Pani Meri Virasat Yojana के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्‍त करना चाहते हैं तो आप हमसें कमेंट बॉक्‍स के जरिये संपर्क कर सकते हैं।

Spread the love

2 thoughts on “Mera Pani Meri Virasat Online Registration Kaise Kare – मेरा पानी मेरी विरासत योजना ऑनलाइन अप्लाई”

Leave a comment